Friday, September 7, 2012

Goverson Comics-19-Nakabposh


Download 09MB
Download 39MB
गोवार्सन कॉमिक्स -१९-नकाबपोश
मेरे प्यारे मित्रों,
इस बार थोड़ा ज्यादा समय बाद आप से बात हो रही है. मेरा नया मकान बन गया है और हम सपरिवार २९ अगस्त २०१२ को अपने मकान में आ गए. मकान में आने का मतलब सभी सामान का इधर से उधर होना तो कॉमिक्स के साथ भी यही हुआ है, अभी तक कोई भी सामान अपने सही स्थान पर नहीं पहुच पाया है, साथ ही साथ नेट कनेक्शन भी यहाँ नहीं हो पा रहा है. बी. एस. एन. एल . का ऑफिस हमारे घर से मात्र ३०० मीटर है पर कोयी सपोर्ट न होने के कारण या तो भूमिगत केबल पड़े या फिर खम्भे गाड़े जाये.और बी .एस. एन. एल. के एक काबिल अधिकारी कह रहे है की आप बीएसएनएल के पुराने ख़राब खम्भे खोजो और फिर उसे गड्वावो तो कनेक्शन संभव हो पायेगा. और मै सारे पैसे खर्च करूँ. फिलहाल तो मेरे पास नेट कांनेट पड़ा हुवा था अब मै उसे ही इस्तेमाल कर रहा हूँ और अब देखता हूँ की मेरा बीएसएनएल का कनेक्शन लगता भी है की नहीं, नेट कांनेट की स्पीड काफी स्लो है अपलोडिंग का काम बहुत मुश्किल हो गया है, इसलिए फिलहाल मै कम साइज़ में कॉमिक्स अपलोड कर रहा हूँ हाँ कल कोशिश करूँगा की इस कॉमिक्स का फुल अपलोड भी दे सकू .

अब बात इस कॉमिक्स की कहानी की कर ली जाये, ये कॉमिक्स मुझे इंद्रजाल कॉमिक्स की याद दिलाती है, ये कॉमिक्स उस समय की है जब अंग्रेजी कॉमिक्स की कहानियों को हिंदी में छपने का काम जोरो पर था. ये कॉमिक्स भी उसी का एक हिस्सा है. कहानी के लिहाज़ से ये कॉमिक्स मुझे बहुत ही अच्छी लगी है, मुझे हमेशा ऐसा लगा है की जैसे सब कुछ जाना पहचाना सा है. काफी कॉमिक्स में इस कॉमिक्स के कई हिस्सों की नक़ल मिल रही थी. पर कहानी ने मुझे कही निराश नहीं किया , एक बेहतरीन कॉमिक्स और बहुत ही बेहतरीन कहानी के साथ. सच पूछो तो इस कॉमिक्स को पढने के बाद ही इसे स्कैन करने का मन बनाया था और मुझे ऐसा लगा की ये कॉमिक्स तो सबको पढनी चाहिए. उम्मीद है आप सब को भी ये कॉमिक्स बहुत पसंद आएगी. फिर मिलते है...................

14 comments:

  1. Thanks a lot bro for this rare one

    ReplyDelete
  2. Thanks bhai..Aur bohot bohot mubarak naye ghar k liye..

    ReplyDelete
    Replies
    1. Welcome Brother
      and thanks for ur wishes

      Delete
  3. Excellent Bhai, starting to download and read

    ReplyDelete
    Replies
    1. Welcome Brother
      nice to see you here

      Delete
  4. thanks a lot bro :-)

    ReplyDelete
  5. main to pandey ji ki hindi ka mureed hoon bhai

    naya ghar aap ke parivar ke liye shubh ho

    aap apne se kam lucky logon ke liye lucky hon
    isi asha ke sath

    aap ka
    Aditya

    ReplyDelete
    Replies
    1. Jab tak ham sabhi sath hai koi kam lucky nahi ho sakta

      Delete
  6. thanx many many mnay thanx for these co,mics ...keep it up plz

    ReplyDelete
  7. Hello Manoj Sir,
    I'm from Lucknow and Searching for a Comics. It's name is "Paanch Jasus & Sagar Samrat ka khazana". Do you have this Comics? It published by Goversons Comics.
    and the Second is a Russian Children's Novel. It's name is "Taimur aur Uska Dal-Bal" by Arkadi Gaidar.
    If you've these, than I want to purchase it. Please Reply. Thanks. :)

    ReplyDelete