Saturday, January 26, 2013

Madhu Muskaan Comics-Popat Chaupat Ka Panchranga Aachaar


Download 11 MB
Download 47 MB
मधु मुस्कान कॉमिक्स-पोपट चौपट और पचरंगा आचार
 मधु मुस्कान पत्रिका एक बहुत ही अच्छी पत्रिका थी और पत्रिकाओं में मै इसे सबसे बेहतर मानता हूँ। इसके चरित्र, इसके चित्र और कहानियां लाजबाब होती थी, मुझे मधु मुस्कान में कभी भी बहुत ज्यदा लगाव नहीं रहा उसका कारण बचपन में पैसे की कमी होना था और जब पैसे हुए तो ये पत्रिकाए नहीं छप रही है। यही शायद मेरे जैसे सभी दोस्तों की परेशानी रही होगी। उस समय जो हमें सबसे ज्यादा भी पसंद होता था उसके लिए भी हमारे माता-पिता पैसा नहीं देते थे,(कारण पैसे की कमी नहीं कॉमिक्स को बुरा समझा जाना ज्यादा नहीं था।). सब कुछ छुप-छुप कर करना पढता था, कॉमिक्स लाने से लेकर उसे पढने तक सब कुछ छुप कर,इनको पढना सबसे बुरा और बेकार काम समझा जाता था। और ये भी एक बहुत बड़ा कारण है कॉमिक्स और कॉमिक्स पत्रिकाओं के पतन का, कॉमिक्स पढ़ते हुए देखे जाना चोरी करने जैसा होता था जिसके लिए सबसे कड़ी सजा हमें मिलती थी,ऐसे में उन्हें संग्रह करके रखना असंभव जैसा काम था और आज भी है,मै कैसे अपनी कॉमिक्स के साथ रहता हूँ ये सिर्फ मै ही समझ सकता हूँ।

जीवन में मैंने एक बात बहुत अच्छे से जानी ही की आप अगर भगवान् का अवतार भी क्यों न हो आप सब को एक साथ खुश नहीं रख सकते। और आजकल जैसा समय है आप चार को खुश करने की कोशिश करेंगे तो चालीस आप से नाराज़ हो जायेंगे। आज अगर मै एक बात को अच्छे से सोचता हूँ तो एक चीज़ पाता हूँ, कि कम से कम कॉमिक्स स्कैन और अपलोड करने को लेकर जानने वाले किसी को देने के अलावा कुछ लिया नहीं है,और हर दुसरे और तीसरे दिन कुछ न कुछ पढने को देता ही रहता हूँ फिर भी मै बहुत बुरा हूँ ,हर दूसरा आदमी मुझे अपना साथ न देने का दोषी ठहरता है। मैंने आज तक किसी से कुछ शायद ही कभी कुछ लिया हो फिर भी हर आदमी मेरी बुराई का बहाना खोजता रहता है।
 पर फिर "गुरू" फिल्म का वो संबाद याद करने के बाद बहुत राहत मिलती है की "अगर लोग आप की बुराई करना शुरू कर दें तो समझ लो की तुम तरक्की कर रहे हो"।
 ऐसा भी बिलकुल नहीं है की मै ये नहीं सोचता की ये सब अगर एक साथ कुछ कह रहे है तो क्यों कह रहे है, पर मेरा तरीका कुछ अलग है, अगर कोई मुझे कुछ कहता है तो मै खुद को उसकी जगह रख का देखता हूँ अगर वो आदमी मुझे सही लगता है तो मै उसकी कही गयी बात को सकारात्मक लेता हूँ औरअपने में सुधार करने की कोशिश करता हूँ और मै उससे सही नहीं पाता हूँ तो फिर मै अपने को पहले जैसा ही रखता हूँ। और इसके भी ऊपर मै इश्वर से अपने लिए सजा की प्रार्थना करता हूँ अगर मैंने कुछ ऐसा किया है जो मुझे नहीं करना चाहिए।
 आज मुझे लगभग पांच साल हो गए कॉमिक्स को स्कैन और अपलोड करते हुवे, बहुत कुछ सुना और बहुत कुछ देखा। पर इसके बाद  भी जब-जब मेरी बुराई होनी शुरू हुई मुझे कुछ जबरदस्त फ़ायदा हुवा। जैसा की पिछली बार था जब मुझे लगा की शायद मुझ में कुछ कमी है कही मुझ से गलती हुई है, बस उसी समय मेरी कमाई, मात्र दो दिन के अन्दर चार गुना बढ़ गयी। और अभी दो दिन पहले की बात ले लूँ फिर मुझे लगा की शायद फिर मुझ से कोई गलती हो रही है फिर मुझे ऊपर वाले की मदद से(आप लोगो की दुवाओ से ) दुसरे स्कूल ने सामने से बुला कर पहले से 40% ज्यादा पैसे देकर अपने यहाँ काम करने को कहा और मैंने 25 जनवरी 2013 को पुराना स्कूल छोड़ कर नया स्कूल ज्वाइन कर लिया।
 ये सब बाते मेरा मनोबल बढाती है और मुझे इस बात का अहसास करवाते है की मै अभी फिलहाल तो सही हूँ, और मै ये अच्छे से जनता हूँ जिस दिन मै गलत हूँगा मै अपनी सजा भुगतने को तैयार रहूँगा क्योंकि भगवान् की लाठी में आवाज़ नहीं होती। और मै चाहता भी यही हूँ।
 मुझे लगता है आज कुछ ज्यदा हो गया, अब बात इस कॉमिक्स की कर ली जाये .
 ये कॉमिक्स छोटी-छोटी कहानियों का संग्रह है और कहानियां बहुत मजेदार है,जैसे पहली कहानी में पोपट और चौपट अपने वैज्ञानिक दोस्त से मिलने जाते है और स्पेस यान को घर समझ कर उसमे घुस जाते है और नास्ते के चक्कर में कुछ बटन दबा बैठते है और फिर उनके साथ क्या क्या होता है ये आप कुछ पढ़ का जाने तो ही अच्छा रहेगा।

7 comments:

  1. aapne to subah subah surprise de diya manoj bhai thanks

    ReplyDelete
  2. Thanks Manoj Bro. I'm already having this one already scanned but thanks for your efforts

    ReplyDelete
    Replies
    1. Welcome Brother
      Please don't take otherwise
      jo comics aap ne scan ki huwi hai ya fir upload ki huwi hai agar aap unki list
      ya fir mere upcoming next me show hoti hai to fir mai jaldi bata den
      jisse wo comics jyda upload ho payen jo kahi bhi uploaded nahi hai jisse
      ham jaldi se hindi comics maximum comics upload ho sake

      Delete
  3. Manoj jee,, abhi aapki mostly comics dekh raha hu ki sab ki sab main ne padi hai kabhi na kabhi,, mere paas bhi aaj se 10-12 saal pehle bahot achcha collection tha comics ka
    jaisa ki aapne kaha,, ki comics padna chori ki tarha mana jata tha,,wahi mere sath bhi tha,, mujhe us time (aaj se 20 saal pehle ) 1 Rs. jeb kharch ke milte the aur wahi 1 rs mujhe mere chacha se milte the,, tau se le leta tha,, aur apni dadi se bhi,, to mere paas 4-5 Rs ho jate the jo aaj se 20 saal pehle bahot badi rakam hoti thi ek bachche ke liye,,
    comics ka kiraya .20 paisa aur .50 paisa hota tha,,
    main bhi chori se padta tha,,,
    fir jab ghar pe mehmaan aate the jo jaate waqt vidayi dekar jate the (minimum 10 rs to milte hi the) un paiso se main comics kharid leta tha (purani comics)
    main ne kabhi nayi comics nahi kharidi us time,, jo comics 6 month purani ho jati thi wo mujhe 1 se 2 rs tak me mil jati thi,,
    aap yakeen nahi manenge ki mere kapdo ki almari me kapdo ke liye jagah nahi bachi thi,,
    ghar walo ko pata chala to pitayi hui aur unhone sari comics fad di,,
    bahot dukh hua kam se 600-700 comics thi
    uske baad mujhe pata chala ki hamari rishtedari me bhi kisi ko comics ka shouk hai
    wo hamare sanjay bhaiya tha,, mawana rehte the,,
    main to chhota tha isliye ja nahi sakta tha,, to papa se zid kar kar ke main mawana gaya,, sanjay bhaiya to bade ho chuke the isliye wo padte nahi the,, unse ro dho kar unka sara collection utha laya bori me bhar kar,, papa ne waha bhi danta tha mujhe ki ye kya harkat hai,, lekin rishtedaro ke samjhane pe wo kuch nahi bole,,
    ab sabse badi baat thi us collection ko bachaye rakhna,,
    apne hi ghar me main ne wo jagah dhundni shuru ki jaha meri comics safe reh sake
    unke yaha se main 276 comics laya tha,, jisme JR. jems bond ki comics bhi thi,, shayad aapne padi ho,, usme ek chhota bachcha hota hai jo hat lagata hai,, thodi comedy ka sath wo case hal karta tha,,
    khair,, itni comics fir se mere paas hone se mere ghar me dosto ka aana jana shuru ho gaya,,
    aur aap jante hi hai ki agar itni comics ho to padhne ka time hi nahi mil sakta
    wahi hua jiska dar tha
    dhire dhire papa ka gussa badta raha aur comics fir se gusse me fatni shuru ho gayi,, majboori me mujhe comics bechni padi,, aur khudh ghar walo ne kabadi ko de di,,
    fir main kuch mahine udas raha,, paise gullak me iqathhe karta raha,,
    nov 2000 me meri bua jee ke ladke ki shaadi hui,, aur meri kismat achchi thi ki shaadi me mere dance ki wajah se var fer (jab koi dance karta hai to ghar wale uske sar se utar kar paise dete hai ) ke paise iqathhe ho gaye,, tab mujhe laga ki dance karna kamyab ho gaya,, aur sath hi sath shaadi ke mahool me paise aate hi rahe, kabhi kisi kaam ke kabhi kisi aur kaam ke
    1780 Rs iqathhe hue,,
    mere college ke bahar ek comics wala tha jo manoj comics rakhta tha shuru se last tak
    fir main ne us crocbond, ajgar, jamboo, hawaldar bahadur ki shuru se publish hui nov 2000 tak ki sari comics karid li,,
    main ne us se kilo ke hisab se li to jo total 346 rs ki baithi thi
    uske baad main ne us se wo magzine ka bhi collection liya jisme ek rajkumar ki kahani aati thi
    kahani kuch is prakar thi ki rajkumar pani pine ke liye rukhta tha to usko ek ped (tree) kehta tha ki ruk jao ye pani piyoge to tum bhi ped (tree)
    yaad ayaa,, us patrika ka naam tha NANHE SAMRAAT, hahahahaha
    haan to nanhe samraat ka bhi sara collection kharid liya
    wo baitha tha 800 tak ka shayad
    (i think ki jayada hi likhta jaa raha hu to jaldi khatam karta hu)
    fir daur shuru hua orkut ka,, to main ne apni saara collection free me manoj comics ke ek collector ko de diya,,
    wo ladka yaha mere ghar aaya gadi leke aur sari comics le ke gaya,,
    usne wo sari scan karke upload kar di jis se mujhe khushi mili,, meri comics usko dena safal ho gaya
    aaj mostly manoj comics jo internet pe hai,, unme se jayadatar us community ki hi hai jisko main ne wo comics bheji thi
    maafi chahunga ki mujhe us uploader ka naam yaad nahi kyoki is bat ko bhi 7-8 saal ho gaye hai,,
    chaliye,, fir milege kabhi time mila to,,
    by the way,,, keep it up manoj jee

    ReplyDelete