Thursday, March 7, 2013

Chitrabharti Kathamala-72-Chamtkari Chadi


Download 11 MB
Download 32 MB
चित्रभारती कथामाला-74-चमत्कारी छड़ी
 हिंदुस्तानी कथावों के कुछ ऐसे चरित्र है जिन्हें लगभग हर प्रकाशन ने अपनी सुबिधा के अनुसार खूब भुनाया। उनमे से कुछ है वीरबल, तेनाली राम , और विक्रम वेताल। और अगर देश के बहार के चरित्रों की बात करूँ तो ड्राकुला का नाम सबसे पहले सामने आता है। और इस कहानी में राजा विक्रम का मुख्य रूप से इस्तेमाल किया गया है,कहानी बहुत ही बेहतर है और पढने के बाद आप को काफी समय तक ये कहानी याद रहेगी।

आजकल मै बहुत ही व्यस्त चल रहा हूँ थकान भी महसूस कर रहा हूँ और बहुत जोरों की नीद भी आ रही है। काफी समय से कोई कॉमिक्स अपलोड नहीं कर पा रहा था तो किसी तरह से हिम्मत करके इसे अपलोड कर रहा हूँ, अगले अपलोड में मै जरुर किसी और बारे में आप से ढेर सारी बाते करूँगा। आज के लिए बस इतना ही फिर मिलते है नयी कॉमिक्स के साथ ..................

19 comments:

  1. Thanks a lot Manoj bhai for this comic. Me and my husband are fans of Indian classics based comics....Bravo for upload :)

    ReplyDelete
    Replies
    1. Welcome
      i really feel happy when i see someone happy because of me

      Delete
  2. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  3. brother plz.zzz.zz.z... Tausi aur tripal t comics upload karo.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Brother tipple t ke suru ke 3 panne nahi hai jaise hi kisi ke pass milta hai mai baki ke scan kar dunga

      Delete
  4. manoj bhai jitna wait aap k blog pe nayee comic ka karta hoon utna to apni gf ka bhi naahi karta itna wait mat karwaya kijiye yr ur comc r unque

    ReplyDelete
    Replies
    1. Aap Sab ka yahi pyar aur intzaar hi mujhe kita busy hone ke bawjood comics scan aur upload karne ke liye badhye kar deta hai

      Delete
  5. मनोज भाई जादू की छड़ी सचमुच अच्छी लगी| मेरे दोनों बेटे कल रात को मेरे साथ कहानी सुनने के लिए बैठे (Exam के बावजूद), छोटे बेटे का कहना है की पापा ऐसी कहानी और भी हैं क्या? मेने कहा है, थोडा इन्जार करो|
    तो मनोज भाई जैसा की आप पथ के राही हैं
    और हम सब की मंजिल भी (क्योंकि घूम फिर के हम इस ब्लॉग पर पहुच ही जाते हैं, ही ही ही)
    तो है पथ के राही
    मत थको तुम
    जीतो इस थके मन से
    जरा सोचो
    हम बैठे हैं मुह बाये अपने घोंसलों में
    हमे इंतजार हैं दाने का...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Brother ye sirf us din ki thakan thi
      comics scan karne me thakan kabhi nahi hogi

      Delete
  6. मनोज भाई जादू की छड़ी सचमुच अच्छी लगी| मेरे दोनों बेटे (Exam होने के बावजूद) कल रात को मेरे साथ कहानी सुनने के लिए बैठे, छोटे बेटे का कहना है की पापा ऐसी कहानी और भी हैं क्या? मेने कहा है, थोडा इन्जार करो|
    तो मनोज भाई जैसा की आप पथ के राही हैं
    और हम सब की मंजिल भी (क्योंकि घूम फिर के हम इस ब्लॉग पर पहुच ही जाते हैं, ही ही ही)
    तो है पथ के राही
    मत थको तुम
    जीतो इस थके मन से
    जरा सोचो
    हम बैठे हैं मुह बाये अपने घोंसलों में
    हमे इंतजार हैं दाने का...

    ReplyDelete
    Replies
    1. Aap Sab ka yahi pyar aur intzaar hi mujhe kita busy hone ke bawjood comics scan aur upload karne ke liye badhye kar deta hai

      Delete
  7. मनोज भाई जादू की छड़ी सचमुच अच्छी लगी|

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks Brother
      aap ko kahani achchi lagi hai ye mere liye bahut khushi ki baat hai

      Delete