Sunday, February 9, 2014

Tulsi Comics-Taushi aur Tripple T


Download 22 MB
Download 36 MB
Download 130 MB
तुलसी कॉमिक्स -तौसी और ट्रिपल टी
तुलसी कॉमिक्स श्री वेद प्रकाश शर्मा जी का है। तुलसी कॉमिक्स के तीन सबसे बड़े नायक "जम्बू", "तौसी", और "अंगारा" थे। और इन तीनो चरित्रों को बनाने वाले भी अपने आप में बहुत अच्छे उपन्यासकार थे और पुरे देश में इनके लिखे उपन्यास आज भी लोग पढ़ते है। जम्बू को खुद श्री वेद प्रकाश शर्मा जी ने खुद लिखा,तौसी को ऋतुराज जी ने लिखा जो कि सामाजिक उपन्यास लिखते थे,और अंगारा को श्री परशुराम शर्मा जी ने लिखा जिन्होंने राज कॉमिक्स के लिए नागराज,विनाश्दूत और भेड़िया लिखा। और नूतन कॉमिक्स के लिए मेघदूत लिखा। और अगर इनके चित्रकारों कि बात करूँ तो जम्बू को भरत मकवाना जी तौसी को कदम जी ने और अंगारा को प्रदीप शाठे जी ने बनाया। इस तरह से अगर देखा जाये तो इन कॉमिक्स को सबसे ऊपर रखा जाना चाहिए था पर शायद उस समय ये कॉमिक्स छपने में जयदा और कॉमिक्स कि गुड़वक्ता में कम ध्यान दीया। फिर भी ये कॉमिक्स जरुर पढ़ने लायक है। अच्छी कहानी और बेहतरीन चित्रों वाली ये कॉमिक्स आप को जरुर पढ़ने चाहिए।
 जैसा कि आप सभी जानते है कि हिंदी कॉमिक्स का बहुत बड़ा प्रेमी हूँ ,कॉमिक्स के प्रति जो मेरा पागलपन है वो तो मेरे घर वाले ही कायदे से समझते है या कहूं झेलते है पर मैं सुधरने को तैयार नहीं हूँ। मेरा ये कॉमिक्स प्रेम अभूतपूर्व है और मैं बहुत दिनों तक ये सोचता था कि मुझसे बड़ा कॉमिक्स प्रेमी कोई हो ही नहीं सकता है पर समय समय पर मुझे कुछ ऐसे लोगो मिलते रहे जो मुझे आईना दिखाते रहे पहले तो मेरा सबसे बड़ा कॉमिक्स कलेक्टर होने का भ्रम टूटा और अब मेरा कॉमिक्स के प्रति सबसे बड़ा पागलपन रखने का भ्रम टूट गया। अब तो मुझे यकीन हो गया है कि मै तो इन सब लोगो से बहुत छोटा हूँ ये सब तो मुझसे बहुत आगे है।
 इस कॉमिक्स कि प्रति वो दीवानगी मुझे देखने को मिली जिसके बारे में मैं सोच भी नहीं सकता था। संजय जी मेरे इसी ब्लॉग से कॉमिक्स डाउनलोड करते है और दिल्ली में वकालत करते है उनसे मेरी एक दो बार बात हो चुकी थी। अभी कुछ दिन पहली उनका फोन आया वो चाहते थे कि मै ये प्रस्तुत कॉमिक्स जल्दी से अपलोड कर दूँ पर मेरी अपनी कुछ मज़बूरियाँ रहती है इसलिए ये काम जल्दी होना सम्भव नहीं लग रहा था। उनसे मेरी बात हुवी वो सिर्फ एक कॉमिक्स के लिए दिल्ली से लखनऊ आ गए जब कि उन्हें मैंने बता दिया था कि इस कॉमिक्स में चार पन्ने फट्टे है। अब मै एक कॉमिक्स के लिए १० किलोमीटर भी नहीं जा सकता और संजय जी पुरे ५०० किलोमीटर चले आये। अब आप ही जरा सोचिये कि किसका कॉमिक्स प्रेम ज्यादा बड़ा है मेरा या संजय जी का, मेरे अनुसार संजय जी का।
फिलहाल एक और संजय,यानि संजय सिंह  जी कि मदद से ये कॉमिक्स बिना किसी मिस्सिंग पेज के साथ अपलोड करने में सफल हो पाया हूँ जिसके लिए उन्हें तहेदिल से धन्यबाद। 
 आज के लिए इतना ही फिर जल्दी ही किसी और कॉमिक्स के साथ जल्द ही आप सब से मिलता हूँ।

22 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. Thanxs bro.. A rare and a missing one..

    ReplyDelete
  3. Thanks A Lot, Manoj Bhai, Saath hi Sanjay ji ko bhi dhanyawaad

    ReplyDelete
  4. Many Many thanx Manoj Bhaiya & Sanjay Ji

    ReplyDelete
  5. सबसे पहले तो मनोज भाई और दोनों संजय भाइयों को नमश्कार साथ ही साथ बहुत-बहुत शुक्रिया इस नायाब कॉमिक्स के लिए| साथ ही निशु कंसल जी को मुबारकबाद देना चाहूँगा (क्या करूँ शरारती मन चुटकी लेने से बाज़ नहीं आता) क्योंकि कंसल जी काफी लम्बे समय से इस कॉमिक्स को ढूंढ रहे थे वो लगभग हर ब्लॉग पर जा कर देख चुके थे उन की इस ख्वाहिश को देख कर तो लगा की ये कॉमिक्स तो अब न मिले भाई पर समय के भीतर क्या छुपा है कौन जाने और देखो उनके धेर्य ने क्या कमाल दिखाया|
    थैंक्स मनोज भाई और संजय भाई

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks brother
      but kya kahun, mujhe to apni tarif sun kar dar lagta hai, itne logo ki ichawon ko pura karna asambhav hai par upar wale ki kuch kripa hai ki mai aap logo ko jydatar mang puri kar pata hun

      Delete
  7. thanx a lot manoj bro :-)

    ReplyDelete
  8. Manoj bhai murdo ka tapu ka password kya hain

    ReplyDelete
  9. Manoj bhai murdo ka tapu ka password kya hain

    ReplyDelete
  10. Dear Manoj Bhai,

    Aap ne pichhle kai varshon mein MC upload ker ke bahut badhiya kaam kiya hai kintu MC comics mein mujhe kahin bhi 5 se adhik 'Dark Tales' nahi mili. Kya aap 'Dark Tales' per focus ker sakte hain? Is ke atirikt 1st comics 'Afimilal Aur Machinilal' bhi bahut samay se dhoond raha hun. Dhanyavad!

    ReplyDelete
  11. Hi sir.. main kaffi samay se " शालू कालू और पागल सांड (Tulsi comic), photographs ka rehasaya (Tulsi comic) and Postmortem (Manoj Comics) dund raha hun. Mil nahi rahi. Agar aap ko mille ton zaroor upload kerre. Thanks a lot.

    ReplyDelete
  12. hi dear,

    Can you re-upload TAUSI -TRIPLE T, your existing link is not working anymore.

    Thanks in advance.

    ReplyDelete