Friday, January 8, 2016

Prampra Comics-137- Gangste Ki Talas



Download 10 MB
Download 45 MB
परम्परा कॉमिक्स-१३७-गैंगस्टर की तलाश
 जैसा की मैंने वादा किया था की ये सीरीज पूरी करूँगा तो संयोग से ये सीरीज आज लगभग पूरी कर दूंगा। इसमें से तीन कॉमिक्स बज़ूका, मै हूँ गोर्रिला और कहाँ गया गोरिल्ला मेरी स्कैन की हुयी नहीं है। जिसको मैंने अपने एक मित्र से कॉमिक्स पेन ड्राइव में लिया था इस लिए उन स्कैन और अपलोड करने वालों के नाम बताने में असमर्थ हूँ हाँ मै हूँ गोर्रिला r k o ब्रदर ने स्कैन की थी उस कॉमिक्स में उनका लोगो लगा है।
 कहानी के लिहाज़ से पहली सीरीज ठीक ही है पहले तो कहानी के इतना विस्तार कर दिया फिर जैसे उन्हें लगा की सीरीज बहुत लम्बी हो जाएगी तो फटाफट ख़त्म कर दिया। इसलिए मुझे तो कहानी कुछ अधूरी सी लगी। फिर भी देखा जाये तो कहानी ठीक है।
 और दूसरी सीरीज अभी अधूरी है और मेरे पास "फिर आया गोर्रिला" मेरे पास नहीं है अगर किसी के पास हो तो उसे जरूर उपलोड करें।
अभी तो फिलहाल मेरी जिंदगी पटरी से उतरी हुयी है। बेरोज़गार होना भी बहुत बड़ी मुशीबत है। वैसे तो देखा जाये तो पैसे को लेकर मुझे परेशानी नहीं है।  एक तो मुझे किसी भी चीज़ की लत नहीं है दूसरे मेरे पिता जी अभी जॉब में है और हमारा अपना मकान है तो उसका भी कोई खर्चा नहीं है। घर का सारा खर्चा भी पिता जी ही उठाते है तो उसको भी लेकर मुझे कोई चिंता नहीं है।  ऊपर से मैं होम टूशन से लगभग ३५ हज़ार कमा लेता हूँ। जो की मेरे लिए बहुत है। पर मैंने अभी तक घर पर किसी को नौकरी से निकले जाने के बारे में बताया नहीं है तो मुझे बच्चे को लेकर स्कूल जाना पड़ता है उसको स्कूल में छोड़ कर फिर कही गाड़ी खड़ी करके इंतज़ार करना बहुत खलता है। बहुत बार दिल किया की घर पर बता दूँ पर न बताना मुझे ज्यादा ठीक लग रहा है। पहला कारण जब मुझे पैसे को लेकर कोई परेशानी नहीं है तो घर वालो को बता कर परेशान करने का कोई तुक नहीं बनता दूसरा जो ज्यादा बड़ा कारण लगता है वो ये है की अगर मैंने घर पर बता दिया तो फिर मुझे घर से सुबह निकलने का कारण ख़त्म हो जायेगा फिर मै घर पर ही रह जाऊंगा तो फिर नौकरी कौन ढूंढेगा।  घर से निकलने की मज़बूरी के कारण नौकरी मिलने की   सम्भावना ज्यादा प्रबल हो जाती है। वैसे दो तीन स्कूल में बात चल रही है उम्मीद है जल्दी ही कुछ अच्छी खबर मिलेगी। 

5 comments:

  1. मनोज भाई! मारने वाले से बचानेवला बड़ा होता है! भगवान पे भरोसा रखो|
    घरवालों को सब बतादो| १ झूट छुपाने के लिए १० झूट बोलने पड़ते है| आप ट्यूशन लेके इतना कमाते हो तो क्यों ना इसी को अपना पेशा बना लिया जाये| येही पेशा बड़े पैमाने पे चालू कर दीजिये | इससे २ फायदे होंगे -१) आप नौकरी से कही गुना ज्यादा कमा लोगे|
    २) बच्चों को किस्सी सच्चे आदमी से शिक्षा मिलेगी ना की किसी झुटे पैसो के लालची से |

    हम comic lovers के लिए तो आप भगवान से काम नहीं हो |
    हमारी दुवाएं हमेशा आपके साथ रहेगी |

    ReplyDelete
  2. Thanks a lot Manoj bro. I pray to God to fulfill all ur good wishes. Btw, suggestion from Nishad bro is a good option

    ReplyDelete
  3. Ty manoj bhai and happy new year to u and ur family.

    ReplyDelete
  4. priya manoj ji
    aap sukhi rahen or aage badhen nirash na hon. agar interview ki taiyari men kuch madad chahen to kripya mujhe likhen-adityam.fms@gmail. com

    aap ka
    aditya

    ReplyDelete
  5. Kya manoj Ji,,job nahi hai to kya hua shadi ho gae yahi bahut hai,,aur aap ko passey ki kya kami hai to gaari patari sai utari kaha hai

    ReplyDelete