Tuesday, November 13, 2012

Nutan Chitrakatha-47-Sone Ka Pahaad

Download 10 MB
Download 32 MB
नूतन चित्रकथा-४७- सोने का पहाड़
सर्वप्रथम आप सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें
 जैसा की आप सभी जानते ही है कि पिछले कई दिन मेरे लिए बहुत मुश्किल थे,हर दूसरा आदमी मेरे बारे में अपने ऑरकुट में कुछ न कुछ लिखता रहा,जो कि मेरे लिए बहुत ही कष्टकारी था,कुछ महानात्मएं ऐसी भी थी जिन्होंने मुझे, गधा और सुअर   बोलने तक से परहेज़ नहीं किया,साथ ही साथ मुझे सबक सिखाने कि धमकी तक दी(रोका किसने है मेरा फ़ोन नंबर और घर का पता ऑरकुट में लिखा हुआ है,जो करना हो कर लो. मुझे जो करना था  कर लिया है और आगे भी जो करना होगा कर ही दूंगा, कहूँगा कुछ नहीं.)और तो और कुछ ऐसे लोग भी है  जो ५० से ऊपर हो चुके है फिर भी मुझे गलियां देने वालों को रोकने के बजाये भड़काने में लगे है जिससे उनकी रोटियां सिकती रहे.अब आप सब अंदाज़ा लगा सकते है कि मुझ पर क्या बीत रही होगी,फिर भी न बोलने कि बात को लेकर मै आत्मनियंत्रण कि स्थिति में था.
बहुत दुखी होने के बाद भी मै कही कुछ नहीं बोला और न आज कुछ कह रहा हूँ ,ये उनके विचार है और उनके विचारों को लेकर मै कुछ नहीं कहना चाहता हूँ . फिर बहुत ही दुखी मन से मैंने "विजेता भूतनाथ" अपलोड की और अपने चाहने वालों से अपने लिए इश्वर से प्राथना करने को कहा था की मुझे कॉमिक्स और पैसे मिलते रहे जिससे मै उनकी वही सेवा करता रहू जो आज कर रहा हूँ , आप खुद भी विश्वाश नहीं करेंगे की जैसे  ही मैंने लिखा था वैसे ही मुझ पर पैसों  की बौझार होने लगी आज मै उस से दुगना कमा रहा हूँ ,जो भूतनाथ वाली कॉमिक्स पोस्ट करते समय कमा रहा था,मेरा काम होम टियुसन से ज्यादा चलता है और उसी दिन मुझे अडवांस पैसे देकर लोगो ने अपने बच्चों को पढ़ने के लिए बुलवाया जो की मेरी जिन्दगी में पहली बार हुवा था. अब एक बात तो साफ़ हो गयी है की मेरा बुरा चाहने वालों से मेरा भला चाहने वाले १००० गुना से भी ज्यदा है और वो सच्चे दिल से मेरे लिए इश्वर से प्राथना करते है और इश्वर उनकी प्राथना बहुत सुनते है.
आप सब का हार्दिक धन्यवाद.
 मै भी सच्चे दिल से इश्वर से प्राथना करता हूँ की वो आप सब के घरों में धन और खुशियों की कोई कमी न रखे. और उनके लिए भी मै भगवान् से यही प्राथना करता हूँ जो मेरे लिए दुर्भावना रखते है की भगवान् उनकी भी सारी इच्छाए पूरी करें. और इस दीपावली उनका मन खुश और शांत रहे.
अब बात इस कॉमिक्स की कर ले जाये, ये कॉमिक्स भूतनाथ सिरीज़ की कॉमिक्स है और जैसा की भूतनाथ सिरीज़ की ये चौथी कॉमिक्स मेरे ब्लॉग पर अपलोड हो रही है कहानी के लिहाज़ से ये कॉमिक्स बहुत ही बेहतर है,पर विजेता भूतनाथ की तुलना में ये कुछ कमजोर दिखती है. कहानी  शुरु होती है समुन्द्र में  भागते अपराधियों को एक बोतल में मिले पत्र और नक्से से जिसमे  सोने के पहाड़ का जिक्र है. बस अपराधी उन सोने के पहाड़ को पाने की ठान लेते है और फिर शुरु होती है ये खूनी   दास्तान, जिसमे में अपराधी लेते है खूंखार डकुवों का सहारा और बेचारे असहाय जंगली लेते है भूतनाथ का सहारा. और फिर किस तरह से ये कहानी आगे बढती है ये ही इस कहानी का मुख्य आकर्षण है. आप सब इस बेहतर कहानी का आनंद ले और मेरे लिए इश्वर से प्राथना करते रहे
 मै जल्दी ही आप सब से फिर एक नयी कॉमिक्स के साथ दुबारा मिलता हूँ ..........

18 comments:

  1. Thanks a lot Manoj bro for one more rare upload

    ReplyDelete
  2. brother wo log aapki burai kyu kar rahey hai? And aapney apni original snap kyu hata le.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Bhai jiske bare me is baar likha hai usko to mai bhi nahi janta.
      par wo ye sab kyon kar raha hai meri samjh ke bahar hai.
      yahan dushron ko khush karne ke chakkar me log jinko bilkul nahi jante unki buri me bhi lag jate hai.
      iska koi ilaaz hai.
      bhai snap ke sath kuch experiment kar raha tha fir light chali gayi to bus wahi rah gayi.
      jaldi hi mai nayi snap laga dunga

      Delete
  3. brother mein haryana k rohtak distt. sey hu.mein sbi bank mein cashier post per hu. Comics padna meri hobby raha hai. Khasker manoj comics ke ajgar and ram rahim, tulsi ke tausi and angara and raj ke bankelal and dhruv. Aap kaha sey ho?

    ReplyDelete
  4. Bhai Mai to Lucknow UP
    se hun,kabhi yahan aayen to mujhe se milen jarur

    ReplyDelete
  5. Thanks a lot Manoj ji for fulfilling my request.Diwali gift can't be bigger than this one!
    Terrific post.And don't worry dost, Lakshmi ji will remain in your house for ever.

    ReplyDelete
  6. manoj ji log apke bare me galat ku bol rhe hn, app to upload krte rhte hn phir apko gandi bat ku kh rhe h, ya to wo apse jalte h. App in bato me dhyan mt dijye. Ar agr apko vha accha ni lg rha h tp ap Archie bro ki comm XCF join kr lijye. Mene bi join kr li h ar rcj unjoin kr di h. Apko jha ijjat mile vha jana chiye.

    ReplyDelete
  7. Jiska jo kaam hoga wo wahi karega
    mujhe kisi ke parwah nahi hai.
    thanks for concern

    ReplyDelete
  8. brother ji kya aap angara ke sagar manthan comics upload kar saktey ho?

    ReplyDelete
    Replies
    1. Ye comics mere collection me missing hai

      Delete
  9. nice way to post a comic book by expressing yourself 100%
    keep it up sir

    ReplyDelete
  10. manoj ji, aap bahut accha kaam kar rahe hain , log jo bhi bolein, usse mujhe koi farq nahin padta, keep it up, happy diwali to u and u r family

    ReplyDelete
  11. i have deleted all the comments

    ReplyDelete